कोरबा  कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने जांजगीर जिले की सीमा पर स्थित फरसवानी और सीमावर्ती कोथारी के हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटरों का निरीक्षण किया। उन्होंने दोनों सेंटरों में स्वास्थ्य सुविधाओं और डाॅक्टरों तथा मानव संसाधन की उपलब्धता पर संतुष्टि जाहिर की। श्रीमती साहू ने दोनो सेंटरों में ईलाज के लिए आए मरीजों और उनके परिजनों से भी डाॅक्टरों, नर्सों, दवाओं आदि के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने दोनों अस्पतालों मे साफ-सफाई पर प्रभारी अधिकारियों की तारीफ की। कलेक्टर ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों की मांग पर कोथारी के हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में एक नए वार्ड बनाने और दवाओं आदि के लिए नया भण्डार कक्ष बनाने की भी तत्काल मंजूरी दी। यह दोनों काम खनिज न्यास मद से किए जाएंगे। नया वार्ड बन जाने से कोथारी के इस अस्पताल में बिस्तरों की संख्या दो से बढ़कर 10 हो जाएगी। इससे कोथारी के साथ-साथ आसपास के लगभग 10 ग्राम पंचायतों के लोगों को ईलाज की बेहतर सुविधा मिल सकेगी। इस दौरान सहायक कलेक्टर अभिषेक शर्मा सीएमएचओ डाॅ. बी.बी. बोर्डे, एसडीएम सुनील नायक सहित स्थानीय जन प्रतिनिधि और फरसवानी तथा कोथारी के सरपंच भी मौजूद रहे।
     कलेक्टर ने दोनों अस्पतालों में मेल एवं फीमेल वार्ड तथा प्रसव कक्षों का भी निरीक्षण किया और उनमें उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी पदस्थ प्रभारी डाॅक्टरों से ली। उन्होंने दोनों अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं का संस्थागत प्रसव बढ़ाने के प्रयास करने के निर्देश दिए। श्रीमती साहू ने डाॅक्टरों और अस्पताल में पदस्थ मेडिकल स्टाफ को मरीजों से संवेदनशीलता के साथ मधुर व्यवहार करने और उनका बेहतर ईलाज करने के निर्देश दिए। उन्होंने भण्डार कक्षों में अस्पतालों में उपलब्ध दवाओं और उनकी मात्रा का भी निरीक्षण किया।
*कोरोना काल में भी 61 महिलाओं का सफल प्रसव कराने पर कलेक्टर ने दी बधाई 
     कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने कोथारी के हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में पदस्थ सभी अमले को कोरोना काल में भी 61 गर्भवती महिलाओं का सफल संस्थागत प्रसव कराने पर बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने इस सेंटर का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान प्रभारी डाॅक्टर ने कलेक्टर को बताया कि अप्रैल-मई महीने में सेंटर में 49 गर्भवती महिलाओं का सफल प्रसव कराया गया है। इस दौरान मौहार गांव की कोरोना संक्रमित गर्भवती महिला का भी सफल प्रसव कोथारी के हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में हुआ है। डाॅक्टर ने यह भी बताया कि जून महीने में अभी तक 12 गर्भवतियों का प्रसव इस अस्पताल में कराया जा चुका है। कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने इस पर प्रभारी डाॅक्टर सहित अस्पताल में पदस्थ सभी नर्सों और पैरामेडिकल स्टाफ की प्रशंसा की और उन्हें बधाई देते हुए आगे भी इसी लगन से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया।
*कलेक्टर ने भर्ती मरीजों से ली ईलाज की जानकारी, तबियत का हाल भी पूछा
      फरसवानी पीएचसी के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्रीमती रानू साहू ने अस्पताल में भर्ती मरीजों से किए जा रहे ईलाज के बारे में पूछा। वे सीधे अस्पताल के महिला वार्ड में पहुंची और वहां जांजगीर चांपा जिले के जाटा गांव से ईलाज कराने भर्ती हुई राजकुमारी का हालचाल पूछा। कलेक्टर ने मरीज के संतुष्ट होने पर अस्पताल के पूरे स्टाफ के प्रति प्रसन्नता जाहिर की। इसके बाद उन्होंने अस्पताल के ओपीडी सेेक्शन का निरीक्षण किया और डाॅक्टरों से प्रतिदिन देखे जाने वाले मरीजों की संख्या पूछी। डाॅक्टरों ने बताया फरसवानी के अस्पताल में हर दिन 20 से 25 मरीज ईलाज के लिए ओपीडी में आते हैं। डाॅक्टरों ने यह भी बताया कि जांजगीर चांपा जिले से लगे होने कारण फरसवानी के इस अस्पताल में कोरबा जिले के साथ-साथ जांजगीर जिले के भी मरीजों का ईलाज किया जाता है। इस दौरान उपस्थित जनप्रतिनिधियों से कलेक्टर ने गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत और बन गए मकानों की भी जानकारी ली। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से नरवा-गरूवा-घुरूवा-बाड़ी विकास कार्यक्रम के बारे में भी पूछा।