देर रात लवकुशनगर थाना प्रभारी ने डीजल से भरी अवैध पिकअप पकड़ी कार्यवाही को लेकर पुलिस की भूमिका संदिग्ध।
छतरपुर/लवकुशनगर। लवकुशनगर थाना अंतर्गत बीती रात्रि  तकरीबन 12रू00 बजे डीजल से भरी अवैध पिकअप न्च् 95 ज् - 0052 महोबा से आ रही थी। इसी दरमियान प्रधान आरक्षक आनंद मोहन मिश्रा(208) ने हिरासत में लिया। थाना प्रभारी के वी आर्य से मिली जानकारी के मुताबिक लगभग 800 लीटर डीजल पकड़ा गया तथा अभी इस पर कोई कार्यवाही प्रस्तावित नहीं की गई है ड्राइवर का कहना है कि यह डीजल किसानों का था अगर किसानों के दस्तावेज पाए जाते हैं तो छोड़ दिया जाएगा वरना कार्यवाही प्रस्तावित कर दी जाएगी। लवकुशनगर सीमावर्ती इलाकों मे हो रहा लगातार डीजल का अवैध व्यापार। इसी दरम्यान में जब बात शंभू पेट्रोल पंप के डीलर से की गई तो उन्होंने बताया कि आवश्यकता के अनुसार अगर कम मूल्य में डीजल मिल रहा है तो किसान कहीं से भी ले सकता है मगर इतनी तादाद में डीजल के लाने की कोई स्वीकृति शासन से नहीं होती है। महत्वपूर्ण यह है कि देर रात पकड़ी गई पिकअप के अभी तक दस्तावेज नहीं दिख सके जब कोई दस्तावेज नही तो कोई ठोस कार्यवाही प्रस्तावित नहीं हो सकी, जिसमें पुलिस की भूमिका संदेहास्पद दिख रही है।  सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक किन्ही भी किसानों के कागजात ड्राइवर के पास नहीं है ड्राइवर पूरी रात थाना प्रांगण के लाकब में रहा। इस प्रकार से समूचे सीमावर्ती इलाको में पुलिस की रजामंदी से अवैध व्यापार को इजाफा मिल रहा है जिसमें डीलरों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

डीजल की कालाबाजारी जारी बजह।।
गौरतलब यह है कि उत्तर प्रदेश सरकार और मध्य प्रदेश सरकार की वेट राशि में फर्क होने से लगभग ₹7 प्रति लीटर का अंतर पाया जाता है जिस वजह मध्य प्रदेश से किसान डीजल हेतु उत्तर प्रदेश से परिवहन उचित महसूस करता है मंगर इसका दुरुपयोग व्यापारी कर रहे हैं जो थोक डीजल रखकर किसानों को मनमाने रेट में बेचकर किसानों के नाम को परिवहन में बदनाम करते हैं और रजिस्टर्ड डीलरों का मुनाफा घटा रहे है।